सिंधी समाज ने की सिंधी भाषा एवं संस्कृति को बचाने की अपील

0
104

मानव संसाधन विकास मंत्रालय भारत सरकार के अंतर्गत आज सिंधी रीडर प्रथम कोर्स के सवाल जवाब कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय सिंधी भाषा विकास परिषद एवं भारतीय सिंधु सभा नगर इकाई का महत्वपूर्ण योगदान रहा। कार्यक्रम की शुरुआत श्रीगंगानगर जिला संरक्षक भगवानदास मिठिया,जिला महामंत्री रमेश शेवकानी, नगर इकाई अध्यक्ष लालचंद नाखवा,सिंधी शिक्षिका सीमा शेवकानी, समाजसेवी नारायणदास बनसारी,हरीश मिठिया सहित अन्य अतिथियों ने  इष्ट देवता भगवान झूलेलाल के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलन कर की। जिला महामंत्री रमेश शेवकानी ने राष्ट्रीय सिंधी भाषा संवर्धन परिषद के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि सिंधी भाषा के विकास के उद्देश्य से गठित संगठन द्वारा सिंधी भाषा एवं संस्कृति को बचाने का प्रयास किया जा रहा है।शेवकानी ने कहा कि सिंधी भाषा का कक्षाओं के माध्यम से अध्ययन करवाकर बच्चों में संस्कार भी पैदा किए जाते हैं।जिला संरक्षक भगवानदास मिठिया ने सिंधी सर्टिफिकेट कोर्स की कक्षा का निरीक्षण करते हुए कहा कि विभाजन के बाद सिंधी भाषा व सिन्धियत पर हुई तकलीफों व सिंधी भाषा सभ्यता संस्कृति पर हुए विकास पर मंथन की आवश्यकता है। सिंधी शिक्षिका सीमा शेवकानी ने सिंधी व्याकरण के बारे में विस्तार से बताते हुए कहां की इसके ज्ञान से मातृभाषा की सही जानकारी मिलती है। कार्यक्रम में सिंधी भाषा से सम्बंधित अनेक सवाल जवाब किए गए। कार्यक्रम का संचालन भारतीय सिंधु सभा के अध्यक्ष लालचंद नाखवा ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here